नारियल पानी ठंडा होता है या गरम, नारियल पानी की तासीर कैसी होती है

नारियल पानी ठंडा होता है या गरम – गर्मी का मौसम हो और खाने-पीने में ठंडी चीजें मिल जाएं तो मजा ही आ जाता है। ऐसे में नारियल पानी एक बेहतरीन विकल्प है। नारियल पानी न सिर्फ पेट को ठंडक देता है बल्कि यह शरीर की गर्मी को भी शांत करता है, साथ ही डिहाइड्रेशन त्वचा के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। इतना ही नहीं, नारियल पानी इलेक्ट्रोलाइट्स और एंटीऑक्सीडेंट, अमीनो एसिड, विटामिन, मैग्नीशियम, आयरन, पोटेशियम जैसे अन्य आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर पेय है।

वैसे तो आप गर्मियों में नारियल पानी ज्यादा पीते होंगे, लेकिन आप इसे किसी भी मौसम में पी सकते हैं। दरअसल, गर्मियों में हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होनी चाहिए। ऐसे में नारियल ड्रिंक में मौजूद सूक्ष्म पोषक तत्व इम्यूनिटी को मजबूत बनाते हैं। तो आइये जानते है –

नारियल पानी ठंडा होता है या गरम, नारियल पानी की तासीर कैसी होती है

नारियल पानी ठंडा होता है, नारियल पानी की तासीर ठंडी होती है। नारियल पानी गर्मियों के दिनों में ठंडक पहुंचता है।

नारियल पानी पीने के फायदे

नारियल पानी पीने से शरीर में पानी की कमी नहीं होती है। शरीर में पानी की कमी होने पर या शरीर की तरलता कम होने, उल्टी या डायरिया होने पर नारियल पानी पीना फायदेमंद होता है। इससे न केवल पानी की कमी पूरी होती है बल्कि आवश्यक लवणों की मात्रा भी संतुलित रहती है।

उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए भी नारियल पानी का उपयोग किया जाता है। इसमें मौजूद विटामिन सी, पोटेशियम और मैग्नीशियम ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में सहायक होते हैं। इसके अलावा यह उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में भी सहायक है।

कोलेस्ट्रॉल और वसा रहित होने के कारण यह दिल के लिए बहुत अच्छा होता है। इसके साथ ही इसके एंटी-ऑक्सीडेंट गुण सर्कुलेशन पर भी सकारात्मक प्रभाव डालते हैं।

अगर आप वजन कम करने के लिए तरह-तरह के उपाय आजमा रहे हैं तो नारियल पानी का भी इस्तेमाल करके देखें।

सिरदर्द से जुड़ी ज्यादातर समस्याएं डिहाइड्रेशन के कारण होती हैं। ऐसे में नारियल पानी पीने से शरीर को तुरंत इलेक्ट्रोलाइट्स मिलने में मदद मिलती है, जिससे हाइड्रेशन का स्तर बेहतर होता है।

बढ़ती उम्र के असर को कम करने के लिए भी नारियल पानी का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें मौजूद साइटोकिनिन कोशिकाओं और ऊतकों पर सकारात्मक प्रभाव डालकर उम्र बढ़ने के प्रभाव को कम करने में मदद करता है।

नारियल पानी पीने के नुकसान

नारियल पानी पीने से बीपी कम करने वाले गुण होते हैं। यदि आप पहले से ही निम्न रक्तचाप से पीड़ित हैं, तो आपकी समस्या और भी बदतर हो सकती है। इसके अलावा अगर आप पहले से ही हाई बीपी की दवा ले रहे हैं तो भी आपको ज्यादा नारियल पानी नहीं पीना चाहिए। इससे आपको परेशानी का सामना भी करना पड़ सकता है।

अगर आपकी हाल ही में सर्जरी हुई है तो आपको डॉक्टर की सलाह के बिना नारियल पानी का सेवन नहीं करना चाहिए। सर्जरी के तुरंत बाद नारियल पानी पीने से रक्तचाप को नियंत्रित करना मुश्किल हो सकता है।

अगर आप दस्त या लूज मोशन से परेशान हैं तो भी आपको नारियल पानी नहीं पीना चाहिए। इससे शरीर में पानी की मात्रा बढ़ सकती है और यह समस्या और भी बढ़ सकती है।

मौसम बदलते ही कई लोग बीमार पड़ जाते हैं और उन्हें सर्दी-खांसी की समस्या होने लगती है। ऐसे लोगों को बहुत अधिक नारियल पानी का सेवन करने से भी बचना चाहिए क्योंकि इसकी तासीर ठंडी होती है जिससे सर्दी-खांसी जैसी समस्या हो सकती है।

नारियल पानी में बहुत अधिक मात्रा में पोटैशियम होता है, जो किडनी पर असर डाल सकता है। ऐसे में अगर आप पहले से ही किडनी की समस्या से जूझ रहे हैं तो अपने डॉक्टर की सलाह पर ही नारियल पानी का सेवन करें।

हृदय रोगियों को भी नारियल पानी के अधिक सेवन से बचना चाहिए। क्योंकि इसे पीने से कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की संभावना रहती है। इसलिए अगर आप दिल के मरीज हैं और अपने दिल को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो यह पानी न पिएं।

जो लोग अपने वजन को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहे हैं उन्हें नारियल पानी का अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसमें हाई कैलोरी होती है। अगर बॉडी में कैलोरी बढ़ेगी तो आपका वेट भी बढ़ने लगेगा।

अगर आप सर्दियों में बहुत अधिक नारियल पानी का सेवन करते हैं तो इससे आपको बार-बार पेशाब आने की समस्या हो सकती है। बस दोपहर में एक गिलास नारियल पानी पीने की दिनचर्या का पालन करें।

किसी भी चीज की अधिकता शरीर के लिए हानिकारक होती है। इसी तरह अगर नारियल पानी का अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो दस्त की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। ऐसा तब होता है जब शरीर में पानी की मात्रा बढ़ जाती है।

Leave a Comment